सादगी

मेरी सादगी और मासूमियत पर मुझे गुरूर है,क्या हुआ जो लोग अक्सर दगा दे जाते हैं…तस्सली बस इस बात की है,कम से कम, अपने नजरों में सर उठा कर जीते हैं… ✍🏻 Prabhamayee Parida

Faristey

अब भी दुनिया में कुछ लोग ऐसे मिलते हैं,जो तुम्हे अपने हुनर से रूबरू कराते हैं,फरिश्ते बनकर तुम्हारी ज़िंदगी भी सवार दे..और खुद पर यकीन रखने की हिम्मत भी जगा दे.. अकसर ये लोग होते हैं पल भर के मेहमान,मगर ज़िंदेगी भर के लिए यादें छोड़ जाते हैं…शायद कोई मिले ना उस जैसा, जो उसकीContinue reading “Faristey”

कश्मकश

इस कश्मकश में खुद को उलझाए रखा था हमने,आसमान को जमीन से मिलाने की जिद्द जो की थी हमने,हर नामुमकिन कोशिश भी किया,और नतीजे की परवा न किया,थी जुनून आसमान में खुशियों का रंग बिखेरू..थी शिद्दत जमीन के इश्क से आसमान को करूं रूबरू.. अब जब हुआ सबेरा,और पर्दा उठा इस बेवकूफी से..चाहे करे कोशिशContinue reading “कश्मकश”