एक रिश्ता – डायरी के साथ

खुशियों से है नाराजगी,पलकों को इश्क है अश्कों से..लाख मरतबा किया कोशिशनाता टूट जाए कलम से… नींद की है शिकायत मेरे तहरीर से,पलकों को ना जगाया कर..भावनाओं की भी है यही गुजारिश,दास्तान मेरी जिंदगी का सुन लिया कर.. लब खामोश ही महफूज है,बोलने की जुरमाना अदा जो कर चुके हैं…अब तो अल्फाजों को नज़्म मेंContinue reading “एक रिश्ता – डायरी के साथ”