Crush – unrequited Love

यूँ मोहब्बत होगेई हमें तुमसे,
हुई वो हसीन मुलाकात जिस पल्से,
न इजाजत थी पलको को तुम्हें निहारने की,
फिर भी देखा तुम्हे झुकी निगाहों से।

सोचा न था, खुदा की हमपे रहमत होगी,
इस्क्क़ से फिर यूँ इब्बादत होगी,
नैनो में सजाये सपनो की दुनिया,
इस ज़िंदगी से और शिकायत न होगी।

था खुली आँखों का सपना जो टूट गया,
आँख मिचौली खेलती ये किस्मत फिर रूठ गया,
पता न था वो मंजिल थे किसी और के,
और सफर उस राह से कहीं मूड गया।

Written by Prabhamayee Parida

Advertisements

Thanks Note

Dear All,

I used to write my poems in my diary. 2yrs back I had Started this website so that I can upload my poems & quotes . With my limited time however I publish my post here. I am not an expert in poetry or photography. But I love to write. Today I am having more than 500 followers ( including 120 bloggers) which I never expected.

Thanks to all for your support in terms of your likes . It motivates me to continue my blogging.

#2yrscompletion

#achievement

#unconditionallove

Inspired by the song ” main phir bhi tumko chahunga”

किसी से बेइंतेहा मोहब्बत हम करे,
और वो भी हमें चाहने लगे,
… ये जरूरी नहीं ….

दा – उम्र हम उनका इंतजार करे,
और वो मीलजाए हमें ऐसी उम्मीद रखना,
…ये जरूरी नहीं….

दिल कहे उन पे कुर्बान हो जाएं,
बदले में शायद ही उनका प्यार नसीब हो,
…ये जरूरी नहीं…..

ए – खुदा,बस इतनी सी दुआ कबूल करना तुम,
चाहे पास कभी रहे य ना रहे हम,
कभी किसी मोड़ पे अगर जरूरत हो हमारी,
हर हाल में साथ देने वापस आयेंगे हम।

तुम संग बिताए कुछ याद ,
काफी है ये जिंदगी बिताने के लिए।
एक तरफा इस्क है ये,
किसी के चाह में खुद को मिटाने के लिए।

मिल जाओ कभी तो खुदा की इबादत होगी,
पर शायद कभी ना मिलो और ये प्यार कम हो जाए
…ये जरूरी नहीं…..

Written by prabhamayee Parida

#truelove #feelings

If you like my poem, do like, share and comment.

#Poetry

Wrote it after a long time..

लोगों को अक्सर ये सलाह देते हुए सुना है,
कब तक रहोगे अकेले , क्यूं कोई हमसफ़र नहीं चुना है।
ना होता हर कोई एक जैसा जो वफा ना निभाए,
मौका दो खुदको शायद ही कोई मिलजाए।

दिक्कत बस इतनी सी है जनाब:
आज कल का प्यार मेरे समझ से है परे,
दिल में हो ना हो , सोशियल मीडिया में दिखते हैं सारे।

कहते हैं,
नसीब वाले होते हैं वो,
जिन्हे अपना प्यार मुक्कमल होता है।
आज कल तो बरसो से जुड़ी हुई रिश्ते
एक पल में ही टूट जाता है।

कभी अपने हालात पे अफसोस मनाया करती,
शायद हूं बदनसीब हर लम्हा ये सोचा करती।

ए- खुदा एहसान ये तेरा मूझपे,
बेफिकर में जियुं अपने सर्तो पे।
ऐसा नहीं कि हमें कोई मिला नहीं,
गरूर कहो या हकीकत, मुझे अपने जैसा कोई दिखा नहीं।

Written by prabhamayee Parida

#like #share #comment

Happy mother’s day

खुदा से भी ऊंची दरजा है तेरी,
तेरी कोख से सुरु होती दुनिया ये मेरी,
ये जिंदगी तेरी ही देन है मा,
तेरे जैसी ना कोई और है मा।

उंगली पकड़ के चलना तूने सिखाया,
हर मोड़ में मिला मुझे तेरा साया,
इस दुनिया से लड़ पाऊं अपनी वजूद के खातिर,
इस काबिल तूने आज मुझको बनाया।

तेरे गुस्से में भी तेरा प्यार नजर आए,
मेरी लिए तू पूरी दुनिया से लड़ जाए,
ममता की मूरत है तू,
खुदा की इबादत है,
तेरी तारीफ में शायद ये अल्फाज भी कम पड जाए।

Happy mother’s day।
Written by prabhamayee parida

Gulab – 🌹 Rose

चाहे करना हो प्यार का इजहार,
या फिर हो दोस्ती की शुरूवात,
रूठे यार को मनाना हो,
या हो अपने मेहबूब से मुलाक़ात,
अपनी खुसबू और खूबसूरती से लुभाता है ये गुलाब🌹
कहते हैं प्यार की परिभाषा है ये गुलाब🌹

कभी किताबों के बीच याद बनके रेहजाती है,
मुरझाए पंखुड़ियां भी बीती कहानी बयान करजाती है,
होती जीकर उसकी कवि की कविताओं में,
या किसी ग़ज़ल के पंक्तियों में या फिर शीर्षक बनजाते हैं।

कांटो से जुड़कर भी कुछ खास है, ये गुलाब🌹
कहते हैं प्यार की परिभाषा है ये गुलाब🌹

Happy rose day to all।

Written by prabhamayee parida

#Truth-lie ( sach-jhooth)

कहते हैं भरोसे पे दुनिया कायम है,
पर ये भरोसा है कहां?
झूठ इस कदर चारोऔर छाया है,
सच को नाजाने में ढूंडू कहां?

कभी अनजाने में जूठ को यकीन करलिया था,
अब तो होशो आवाज़ में जुठ को सच मान लेती हूं।
क्या करूं, ये कमबख्त ईमानदारी हमसे छूटती नहीं,
अब तो हर हाल में खुदगर्ज बन जाना चाहती हूं।

हर रिश्ते के खातिर, या कहूं हर मुकाम के लिए,
खुद को साबित किया हमने।
फिर भी जिस दर्जे के काबिल है हम,
उससे ना कभी पाया हमने।

जेहन में इतना है सवाल,
पर जवाब आज तक ना मिला।
इस फरेबी दुनिया में सच जु्ठ का,
चलता रहेगा ये सिलसिला।

Written by prabhamayee parida