Poem, Uncategorized

#coronavirus

देश विदेश में ये कोरोना का आतंक जो छाया है,
जानवर हो या इंसान , इससे कोई ना बचपाया है,
इसी वायरस से बचने का उपाय science के पास भी नहीं ..
फिर भी इस महामारी से लड़ने की अपनी जंग जारी है।

नजाने कितने लोग corona के शिकार हुए,
तो कितने अभी भी जीने की उम्मीद में आश लगाए हैं,
कुदरत का ये किस साजिश की शिकार हुए,
अपनों के करीब होने को सब कतरा रहे हैं,

साथ होके लड़ेंगे सब,
पर पास होकर नहीं…
सजग रहना है और रोकना है इसे फैलने से,
चाहे क्यूं ना रहना पड़े अकेले ही सही…
अपने आप को पहले दूर रखो इस वायरस से,
इस वक्त हमें शयम की जरूरत है डर की नहीं…

Written by prabhamayee parida