Poem, quotes, Uncategorized

#valentineday or #truelove

किसी तारीख कि जरूरत नहीं
अपने प्यार के इजहार के लिए…
क्यूं की गुनाह नहीं अपने इश्क को जाहिर करना।

किसी मौके कि इंतज़ार नहीं
किसीको तोफो से नवाजने के लिए..
इबादत मिलती है कीसिके होटों पे मुसकुराहट भरना।

बेवशी इतनी है गालिब,
हर किसीको मुकम्मल ना होती..
अपनी जज्बात बयान करने को।
वरना किसी “वेलेंटाइन डे” की जरूरत
ना होती, अशिकी में मर मिटने को।

आजकल प्यार में एहसास तो नहीं
पर दिखावा बेशुमार है….
कभी वो एहसास ही भरलो जनाब
उतरेगा नहीं, क्यूंकि ये इश्क की बुखार है।

Written by prabhamayee Parida

Poem, Uncategorized

Hindusthan – secular country

किस बात की है ये लड़ाई,
क्यूं हो रहे हैं ये दंगे….
धरम के नाम पर
ना करवाओ ये पंगे…..

हिन्दुस्तान की सरजमीन
हक देता हर हिंदुस्तानी को…
जाहिर करने को अपनी जज्बात
चाहे वो हिंदू हो या मुसलमान को…

माना आज़ादी है अपनी बात रखने की
पर इस देश को तबाह करने का अधिकार नहीं…
ये राजनीति है जनाब छल कपट की
मजहब के नाम पे, ये हमें मंजूर नहीं..

जात या धर्म के नाम पे
इंसानियत का वास्ता, ना बेचो अपने ईमान को…
बैर मत करो आपस मैं, बस यही गुज़ारिश है सबको…

Written by prabhamayee parida