Adhoori kahani

अब वक्त आ गया,करूं मैं रुकसत तुझे अपनी यादों से..आजाद हुई में,खुद से की गेयी उन कस्मे और वादों से… तेरा दामन ना छोड़ने का वादा हमने किया था,तुझसे इस्क़ करने की सजा खुद को दिया था, या तू सही, या में गलत…ये तुझे है पता।माफ़ करना हजूर..अगर हुई मुझसे कोई खता। ना थी तेरीContinue reading “Adhoori kahani”

New year ( New beginning)

I know i am late to post this poem. But still love to… एक नया साल, एक नई सदी की शुरुआत होगेई,कहीं कहानी ख़तम हुई तो कुछ नई कहानी बन गई। बस यादें रेहगए , कुछ खट्टे कुछ मीठे…बिगड़े रिश्ते जुड़े कहीं तो ,कहीं कुछ अपने है रूठे। इस सदी ने भी नजानें रचे कितनेContinue reading “New year ( New beginning)”

ख़ामोशी – #Silence

क्यूं ये हवा बेरुखी सी है…राहें भी कुछ धुंधली सी है..ख़ामोश रहती हूं अक्सर आज कल,फिर भी सोर सेहनई सी गूंजती है। झिझक ती हूं बयान करने से…क्यूं की लोग अक्सर सलाह अपने सहूलियत से देते हैं।गुजरते हैं हम उलझनों से…पर चंद बातों से लोग उपाय भी तय करते हैं। अपने जज्बात जाहिर करने सेContinue reading “ख़ामोशी – #Silence”