Poem, Uncategorized

Ek nayi suruwat – a fresh start

ज़िन्दगी कभी खतम नहीं होती,
खतम होते हैं पुराने किस्से
नए सुरूवात के लिए।
मुड़ गए हम एक नए राह पर,
बीते कल को भुलाने के लिए।

माना कि चुनना था मुश्किल,
जरूरत और सकून के बीच,
हमने तसल्ली को चुनना मुनासिफ समझा
खुद को ज़िंदा रखने के लिए।

Written by prabhamayee parida

##

Jindegi kabhi khatam Nehi Hoti,
Khatam Hote hain purane kisse,
Nayi suruwat ke liye.
Mud Gaye ek naye rah pe ,
Bite kal ko bhulane ke liye.
Mana ki chunna tha muskil,
Jarorat aur sakoon ke beech,
Humne tasali Ko chunna munasif samajha
Khudko Zinda rakhne ke liye.