Poem, Uncategorized

Jai hind

Happy independence Day to all.

जश्न है अज़ादहिन्द की
देशभक्ति का है ये सोर,
इन्क़लाब – मेरा भारत महान के नारे देशभर में गूंजे चारो ओर.

तिरंगा मेरा ,
आसमान को चूमता
हवा में लहराता
देश के लिए हुए शहीदों के
कहानियां बतलाता
झुके हर सिर तिरंगा के आगे,
वतन से वफ़ा सिखलाता
फिर क्यों घोले हम आपस मे जहर,
न सहेंगे ये आतंक का कहर.

हो वो दुश्मन दूसरे मुल्क का,
या हो कोई देशद्रोही वो,
इस धरती की कसम, देश के लिए लेते हैं प्रण,.
न सुधरोगे तो कटेंगे सर.

Written by
Prabhamayee Parida