A poem dedicated to myself

आज अचानक मुझे ये क्या हुए है,
लगता है कुछ बदल रहा है,
ये एहसास जो पहले कभी मेहसूस ना हुआ,
मेरी किस्मत शायद अपनी राह मोड रही है।

अपनी सक्सियत में भूल गई थी,
ये नहीं थी में कभी, जो में बन चुकी थी,
काश होती मेरी दुनिया अरों की तरह
कल तक किस्मत से ये उम्मीद की थी।
पर हूं में औरों से अलग , भावनाओं में बेहकी जरूर थी,
पर कमजोर तो में तब भी नहीं थी।

ना अब कोई सिकवा है किसिसे,
ना है नाराजगी इस ज़ि्दगी से,
फिर से दिमाग के बदले चुना है अपने दिल को,
इस बहाने आज रूबरू हुई हूं मैं खुदसे।

Written by prabhamayee parida

Published by #prabhamayee

The only way to express your feelings is the way how you express. " The true alchemist do not change lead into gold ; they change the world into Words ". - William H.gass. I wish to be that change. I love to express my thoughts through my Poetry, Blog & Quote. I love to capture moments & share to the world. As per the quote of my page, "I am becoming the best version of myself "

9 thoughts on “A poem dedicated to myself

  1. ना अब कोई सिकवा है किसिसे,
    ना है नाराजगी इस ज़ि्दगी से,
    फिर से दिमाग के बदले चुना है अपने दिल को,
    इस बहाने आज रूबरू हुई हूं मैं खुदसे।
    वाह।बेहतरीन पंक्तियाँ।👌👌

    Like

Leave a Reply to Mehkasha Cancel reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: