Featured

Self motivation

वक़्त भी एक उलझती पहेली है,

कभी आंधी है मुस्किलो से भरा
तो कभी उमीद का सवेरा,
कभी टूटे सपनो का आशियाना
तो कभी अरमानों का बसेरा।

वक़्त के साथ यूँ चलते ही जाना है,
गिर भी जाए तो खुद ही संभलना है,
हार तो है बस पल भर का मेहमान
और जीत को हमसफर ही माना है।

डर न जाना तूफान से
लेहरों के संग तुझे बहते जाना है,
इन्तेहा तो लेती रहेगी ये ज़िन्दगी
कामियाबी तुझे हर हाल में पाना है।

Written by prabhamayee parida

Proud to be a girl 👭

हाँ लड़की हूं में,

किस्मत अच्छी तो वरदान हूं,
वरना श्राप ही कहलाती हूं,
किसी की घर की लक्ष्मी तो
किसी के लिए उम्र – भर का बोझ बनजाती हूं।

हाँ लड़की हूं में,

चाहे में रहूं बेटी या किसीकी बहू बनजाऊ,
दोनों ही पहलू में पराई कहलाती हूं,
दुनिया ये कैसी रित है बनाई,
हर रिश्ते को निभाते हुए अपना वजूद भूल जाती हूं ।

हाँ लड़की हूं में,

आज लड़कों के बराबर खुदको कामयाब बनाया,
निकली में चार दिवारी से और दुनिया में अपना पहचान बनाया,
नामुमकिन जैसा कुछ नहीं अगर इरादे मेरे कमजोर नहीं,
कामयाबी के सिखर पे हूं आज इस काबिल खुद को बनाया।

पर सच तो ये भी है, अगर दुनिया से लड़ना पाऊं,
अवला या बिचारी आज भी कहलाऊं,
या तोड़ लूं झूठी रिवाजों को तो फिर
दुनिया के नज़रों में चरित्रहीन बनाजाऊ।

हाँ लड़की हूं में,
पर हक है मुझे आजाद पंछी की तरह जिऊं।
हाँ लड़की हूं में,
ना करूं परवा जमाने की और अपनी धुन में बहती जाऊं।

Written by Prabhamayee Parida

Jal Mahal- Jaipur

#clicked by me

A palace in the middle of ” mansagar lake ” Jaipur. Beautiful view of sunset along with the reflection of Mahal .

But the negative part is the the architectural monument’s beauty is being spoiled by the huge mounds of garbage and litter. Even the water in the Man Sagar Lake is silt-ridden.

I just Wish

Kash -1

काश हुम् आज ये काश न कहते,
बीते हुए वक़्त के पन्ने पलट पाते,
सीसे में जब हमने खुदको तरसा,
सोचा काश हुम् अपनी किस्मत बदल पाते।

हुई हमसे गलतियां ,
काश हुम् ये उस पल समझ पाते,
अनसुनी की हमने अपनो की सलाह,
काश सच्चाई को तब मान ही लेते,
ज़िंदगी कुछ और होती अब,
काश दिल के बदले हुम् दिमाग की सुन लेते।

Kash -2

काश तुमसे हुम् मिले न होते,
काश हमे तुमसे प्यार न होता ।

काश हिम्मत होती इक़रार करने की,
काश इनकार से ये दिल न डरता।
होते हो जब साथ मेरे,
काश वो पल यूँही थम जाता।
कुछ कदम तुम्हारे साथ चलना चाहूँ,
ये दिल भी तुमसे गुजारिस न करता।

काश हम इजहार कर पाते
इस काश में कहीं वक़्त गुज़रना जाए।
फिर अचानक हो मुलाकात बरसो के बाद,
तब ये काश फिर कहीं काश न रहजाये।

Written by Prabhamayee Parida

Still I’m sorry!

To,

Mr. Victorian of Love !

As long as day passed,I found myself guilt in my own eyes.I wish to say sorry to you.
Still,I apologise to you to not fulfill your expectations.
I was fond of reading your mind but it was AGONY to get that all the wrong is with me.
Yeah,your Endearment attracted me a loads,
might be the reason for developing Infatuation with you.
Your modesty were not common but disparity among all,
Yeah, Somehow,it repled me,rout my ego and I fallen in love
But,now,I m seeing my selfishness is killing you day by day,just sorry all I wish to say….
When,I assemble all the memories of us,I still remember my sin.
M sorry to make you like cripple and haze you a lot.
I don’t know still the part due to which you loved me,But
I feel sorry for the riveting part which force you to be with me.
I know,our togetherness usually savour you.But just I’m dismal for my grim to you.
I know,You are enduring all those because of true love,but regrettably saying sory for the gloomy I have given to you….
No doubt,your truthfulness is applaud to me,But the tears usually come in your eyes due to my silliness,yeah I see..
I can’t even placate you but increase you anger.
Straighting up all the words,Lastly I’m feeling sorry to subdued you…

Silence! Silence!

In the silence of my dark,
Searching for shinning spark.

All those memories,I spent;
Yes,It can’t fade away,
But,the reborn of me!
Creating my murdered way.

My soul is alone,lost somewhere,
In the empty desert,fumbling here-there.

Extraneous,I’m beautiful as much as daffodils,
Intuitively,my tears flowing in the rills.

Silence,silence!
I created Silence,
Let’s raise voice against violence!

This silence,quite different,

IT’S flavour like cake but tasteless;
Smelling like dryer powder;
Comparable to the rootless weeds,
As it is holding,as awaited,
To blossom like sprouting seeds.

Nevertheless,its not magnifying the real me,
Still a mystery next to thee!

Being as tired of fighting,
Expecting of silence to my soul,
Doesn’t mean I’m week or meek,
But wish to be appear immortal.

Silence,silence!

Yes silence in the dark,
The silent soul,
Drifting in search of spark…..